अध्याय १३

इस प्रकार चिन्ता में मग्न राजा का कितना ही समय बीत गया, परन्तु सन्देह-सागर से पार करने वाला कोई भी कारण वह देख न सकी ॥ ५३ ॥

एवं चिन्तानिमग्नस्य राज्ञः कालः कियान्‌ गतः ॥ सन्देहसागरोत्तारे हेतुं नैवावलोकयत्‌ ॥ ५३ ॥

नारद उवाच ॥ इति चिन्तयतो धरापतेर्वद जातं दृढधन्वनस्य किम्‌ ॥ विमलं चरितं हि वैष्णवं कलुषं हन्ति मनाक्छ्रुतं मुने ॥ ५४ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे दृढधन्वोपाख्याने दृढधन्वनो मनःखेदो नाम त्रयोदशोऽध्यायः ॥ १३ ॥

नारदजी बोले – हे मुने! इस तरह चिन्ता को करते हुए पृथिवीपति राजा दृढ़धन्वा का क्या हुआ सो आप कहें। क्योंकि हे मुने! निर्मल वैष्णव चरित्र थोड़ा भी यदि सुना जाय तो पापों का नाश हो जाता है ॥ ५४ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे दृढधन्वोपाख्याने दृढधन्वनोमनःखेदो नाम त्रयोदशोऽध्यायः ॥ १३ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10