अध्याय १४

भक्तवत्सल भगवान्‌ उस सुदेव ब्राह्मण के अत्यन्त उग्र तपस्या को देखकर जल्दी से गरुड़ पर सवार होकर प्रगट भये ॥ ४२ ॥

अत्युग्रं तत्तपो दृष्ट्वा भगवान्‌ भक्तवत्सलः ॥ प्रादुर्बभूव तरसा गरुडोपरि संस्थितः ॥ ४२ ॥

श्रीनारायण उवाच ॥ तं दृष्ट्वा नवजलदोपमं मुरारिं दोर्दण्डैर्जगदवनक्षमैश्चतुर्भिः ॥ संलक्ष्य मुदितमुखं सुदेवशर्मा साष्टाङ्गं नतिमकरोन्मुदा मुकुन्दम्‌ ॥ ४३ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणंनारदसंवादे चतुर्दशोऽध्यायः ॥ १४ ॥

श्रीनारायण बोले – नवीन मेघ के समान, जगत्‌ की रक्षा करने में समर्थ चार भुजा वाले, प्रसन्नमु्ख मुरारि को देखकर सुदेव शर्मा ब्राह्मण हर्ष के साथ मुकुन्द भगवान्‌ को साष्टांग प्रणाम करता हुआ ॥ ४३ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे चतुर्दशोऽध्याय ॥ १४ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8