अध्याय १५

इस प्रकार अपने अनुकूल हरि भगवान्‌ के वचन को सुनकर गरुड़जी ने अत्यन्त प्रसन्नचित्त होकर उस पृथिवी के देवता दुःखित ब्राह्मण के लिये अनुरूप सुन्दर पुत्र को जल्दी से दे दिया ॥ ३५ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्ये दृढ़धन्वो पाख्या॥ने श्रीनारायणनारदसंवादे सुदेववरप्रदानं नाम पञ्चदशोऽध्यारयः ॥ १५ ॥

इति हरिवचनं निजानुकूलं झटिति निशम्यण खगोऽतिहृष्टचेताः ॥ अदददतिविषण्णेमानसाय सुतमनुरूपमिलासुराय रम्यहम्‌ ॥ ३५ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्येग दृढधन्वो्पाख्यासने श्रीनारायणनारदसंवादे सुदेववरप्रदानं नाम पञ्चदशोऽध्या्यः ॥ १५ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7