अध्याय २१

इस प्रकार जो इस पृथिवी तल पर मनुष्य शरीर प्राप्त करके पुरुषोत्तम मास के आने पर वैष्णव ब्राह्मण को आचार्य बनाकर मेघ के समान श्यामवर्ण वाले, राधा के सहित श्रीपुरुषोत्तम भगवान्‌ का हर्ष और भक्ति के साथ प्रति दिन पूजन करेगा वह इस पृथिवी के अतुल समस्त सुखों को भोगकर बाद परम पद को जायगा ॥ ४७ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे दृढधन्वोपाख्याने पुरुषोत्तमपूजनविधिर्नामैकविंशोऽध्यायः ॥ २१ ॥

इत्थं श्रीपुरुषोत्तमं नवघनश्यामं सराधं मुदा सम्प्राप्तेत पुरुषोत्तमेऽवनितले लब्ध्वा जनुर्मानवम्‌ ॥ भक्त्या यः परिपूजयेत्‌ प्रतिदिनं कृत्वा गुरुं वैष्णवं भुक्त्वाह्यत्र सुखं समस्तमतुलं गच्छेत्‌ पदं पावनम्‌ ॥ ४७ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे दृढधन्वोपाख्याने पुरुषोत्तमपूजनविधिर्नामैकविंशोऽध्यायः ॥ २१ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9