अध्याय २२

प्याज, लहसुन, मोथा, छत्राक, गाजर, नालिक, मूली, शिग्रु इनको पुरुषोत्तम मास में त्याग देवे ॥ १९ ॥

व्रती इन पदार्थों को समस्त व्रतों में हमेशा त्याग करे। विष्णु भगवान्‌ के प्रीत्यर्थ अपनी शक्ति के अनुसार कृच्छ्र आदि व्रतों को करे ॥ २० ॥

कोहड़ा, कण्टकारिका, लटजीरा, मूली, बेल, इन्द्रयव, आँवला के फल ॥ २१ ॥

पलाण्डुं लशुनं मुस्तां छत्राकं गृञ्जनं तथा ॥ नालिकं मूलकं शिग्रुं वर्जयेत्‌ पुरुषोत्तमे ॥ १९ ॥

एतानि वर्जयेन्नित्यं व्रती सर्वव्रतेष्वपि ॥ कृछ्राद्यं चापि कुर्वीत स्वशक्त्या विष्णुतुष्टये ॥ २० ॥

कूष्माण्डं बृहती चैव तरुणी मूलकं तथा ॥ श्रीफलं च कलिङ्गं च फलं धात्रीफले तथा ॥ २१ ॥

नारिकेलमलाबुं च पटोलं बदरीफलम्‌ ॥ चर्मवृन्ताजिकं वल्ली शाकं तु जलजं तथा ॥ २२ ॥

शाकान्येतानि वर्ज्याणि क्रमात्‌ प्रतिपदादिषु ॥ धात्रीफलं रवौ तद्वद्वर्जयेत्‌ सर्वदा गृही ॥ २३ ॥

यद्यद्यो वर्जयेत्किञ्चित्पुरुषोत्तमतुष्टये ॥ तत्पुनर्ब्राह्मणे दत्त्वा भक्षयेत्सर्वदैव हि ॥ २४ ॥

नारियल, अलाबू, परवल, बेर, चर्मशाक, बैगन, आजिक, बल्ली  और जल में उत्पन्न होनेवाले शाक ॥ २२ ॥

प्रतिपद आदि तिथियों में क्रम से इन शाकों का त्याग करना। गृहस्थाश्रमी रविवार को आँवला सदा ही त्याग करे ॥ २३ ॥

पुरुषोत्तम भगवान्‌ के प्रीत्यर्श्च जिन-जिन वस्तुओं का त्याग करे उन वस्तुओं को प्रथम ब्राह्मण को देकर फिर हमेशा भोजन करे ॥ २४ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7