अध्याय २२

पुरुषोत्तम मासव्रत को करने वाले जिन-जिन स्थानों में निवास करते हैं वहाँ उनके सम्मुख भूत-प्रेत पिशाच आदि नहीं रहते ॥ ३७ ॥

हे राजन्‌! इस प्रकार जो विधिपूर्वक पुरुषोत्तम मासव्रत को करेगा उस मासव्रत के फलों को यथार्थ रूप से कहने के लिये साक्षात्‌ शेषनाग भगवान्‌ भी समर्थ नहीं हैं ॥ ३८ ॥

पुरुषोत्तमस्य व्रतिनो यत्र यत्र वसन्ति च ॥ भूतप्रेतपिशाचाद्या न तिष्ठन्ति तदग्रतः ॥ ३७ ॥

एवं यो विधिना राजन्‌ कुर्याच्छ्रीपुरुषोत्तमम्‌ ॥ सहस्रवद्‌नो नालं तत्फलं वक्तु मञ्जसा ॥ ३८ ॥

श्रीनारायण उवाच ॥ पुरुषोत्तमं प्रियममुं परमादरेण कुर्यादनन्यमनसा पुरुषोत्तमो यः ॥ पुरुषोत्तमप्रियतमः पुरुषः स भूत्वा पुरुषोत्तमेन रमते रसिकेश्वरेण ॥ ३९ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे दृढधन्वोपाख्याने पुरुषोत्तमव्रतनियमकथनंनाम द्वाविंशोऽध्यायः ॥ २२ ॥

श्रीनारायण बोले – जो पुरुषों में श्रेष्ठ पुरुष मन से अत्यन्त आदर के साथ इस प्रिय पुरुषोत्तम मासव्रत को करता है वह पुरुषों में श्रेष्ठ और अत्यन्त प्रिय होकर रसिकेश्वरर पुरुषोत्तम भगवान्‌ के साथ गोलोक में आनन्द करता है ॥ ३९ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे दृढधन्वोपाख्याने पुरुषोत्तमव्रतनियमकथनं नाम द्वाविंशोऽध्यायः ॥ २२ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7