अध्याय २७

नारद मुनि बोले – इस प्रकार ब्रह्मा के पुत्र चित्रगुप्त के वचन को सुन कर अत्यन्त क्रोध से युक्त धर्मराज ने कहा कि यह कदर्य एक हजार बार वानर योनि में जाय और विश्वा सघात का फल इसको बाद होवेगा ॥ ७९ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे कदर्योपाख्याने सप्तविंशोऽध्यायः ॥ २७ ॥

नारद उवाच ॥ इत्थं निशम्य विधिनन्दनचित्रगुप्तवाक्यं क्रुद्धा प्रबलयाप्लुतधर्मराजः ॥ आहैष यातु कपिजन्मसहस्रकृत्यो विश्वासघातकृतिजं फलमस्य पश्चात्‌ ॥ ७९ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादे कदर्योपाख्याने सप्तविंशोऽध्यायः ॥ २७ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14