अध्याय ७

मेरी आज्ञा से सब जन मेरे अधिमास का पूजन करेंगे। मैंने सब मासों से उत्तम मास इसे बनाया है ॥ ४१ ॥

इसलिये अधिमास की चिन्ता त्याग कर हे रमापते! आप इस अतुलनीय पुरुषोत्तम मास को साथ सेकर अपने बैकुण्ठ में जाओ ॥ ४२ ॥

ममाज्ञया जनाः सर्वे पूजयिष्यन्ति मामकम्‌ ॥ सर्वेषामपि मासानामुत्तमोऽयं मया कृतः ॥ ४१ ॥

अतस्त्वमधिमासस्य चिन्तां त्यक्त्वाा रमापते ॥ गच्छ वैकुण्ठमतु लं गृहीत्वा पुरुषोत्तमम्‌ ॥ ४२ ॥

श्रीनारायण उवाच ॥ इति रसिकवचो निशम्य विष्णुः प्रबलमुदा परिगृह्य मासमेनम्‌ ॥ नवजलदरुचं प्रणम्य देवं झटिति जगाम निजालयं खगेन ॥ ४३ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीयपुराणे पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये श्रीनारायणनारदसंवादेऽधिमासस्यैश्वर्यप्राप्तिर्नाम सप्तमोऽध्यायः ॥ ७ ॥

श्रीनारायण बोले – इस प्रकार भगवान् श्रीकृष्ण के मुख से रसिक वचन श्रवण कर विष्णु, अत्यन्त प्रसन्नतापूर्वक इस मलमास को अपने साथ लेकर, नूतन जलधर के समान श्याम भगवान् श्रीकृष्ण को प्रणाम कर, गरुड़ पर सवार हो शीघ्र बैकुण्ठ के प्रति चल दिये ॥ ४३ ॥

इति श्रीबृहन्नारदीये पुरुषोत्तममासमाहात्म्ये सप्तमोऽध्यायः समाप्तः ॥ ७ ॥

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8